Saturday, 22 December 2012

@@@ माँ सुन लो मेरी पुकार @@@


   
माँ !तूने मुझे जनम क्यों दिया  ?
अच्छा होता मुझे मार देती ,
कोख में ही तेरे |
अच्छा होता तू मुझे ,
न लाती इस दुनियाँ में  ||
काश ! मैं मारी जाती कंस के हाथों,
बचपन में ही शिला पर पटक कर ||
आज , मुझे ये दिन  देखना न पड़ता ,
यूँ भेडिओं के हाथों वलात्कार न होना पड़ता ,
मानव के मुखौटे पहनकर घुमने वाले ,
दरिंदों के हाथों ,
यूँ अस्मत मुझे गँवाना न पड़ता ||
घिन आती है मुझे इन चेहरों से ,
जो कहलाते हैं अपने को मानव ,
पर कदाचित पशु भी
न करते होंगे इतने घिनौने करतव ||
                                           हे  ,भगवान !
                                            क्या सोचकर बनाया हैं  इनको ,
                                           किस मिट्टी से बनाया हैं इनको ,
                                           जो धारण करती हैं इनको ,
                                           अपने ही खून से बनाती है इनको ,
                                           दुर्भाग्य से ,मिटाने पर तुले हैं उनको ||
                                           युगों से हो रहा है अवला पर अत्याचार ,
                                           कभी सीता के रूप में रावण का वार ,
                                           कभी द्रौपदी के रूप में चिर हरण दुर्योधन के हाथों ,
                                           सब सहते हुए हैं बेवस लाचार ||
                                           पापियों  के हाथों हो रहा है हररोज़ वलात्कार ,
                                           इनसान नहीं हैं ये लोग ,
                                           महिषासुर का हैं ये सब अवतार ||
                                           पर मत भूलों माँ का रूप दुर्गा भी है ,
                                           संहार करनेवाली नरमुंड पहननेवाली काली भी है ,
                                           धारण कर पालन करने वाली माँ भी है ||
                                           क्यों कर रहे हो उस माँ का अपमान ?
                                           जिसने तुम जैसे पापियों को ,
                                           गर्भ में धारण करके ,
                                           दिया है अनमोल जीवन दान ||
                                           

Wednesday, 12 December 2012

### मैं समय हूँ ###



चलता हूँ नित ,अबिचल अबिरत ,
खींचता हुआ लकीर संसार के छाती पर ,
अपने धुन में मग्न होकर |
रखता नहीं हिसाव किसी का,
न जाने बीत गए कितने पल,
महिना ,साल ,गए निकल ,
युगों से चलता रहा हूँ मैं ,
समेटे अपने अन्दर कितने उथल पुथल |
देखा है मैंने आँखों के सामने ,
बनते हुए सभ्यता अनेक ,
राजाओं महाराजाओं के ललकार ,
खून की प्यासी तलवार की धार,
न रहा है कोई, न रहेगा कोई ,
पर, गंतब्य है मेरा अनंत अपार |
मूक साक्षी हूँ इतिहास का ,
बनते बिगड़ते ,सँवरते उजड़ते,हर एक दस्तावेज का,
हँसी आती है देख कर ,
मुझे बांधने की तारीखों में ,
मनुष्य के  असफल प्रयास का  |
न थका हूँ मैं ,न रुका हूँ मैं ,
अनंत ब्रह्माण्ड का अनंत श्रोत हूँ मैं,
न कर प्रयास मुझे बाँधने की कोशिश तारीखों मैं,
मैं तो शून्य हूँ ,इस अंत हीन प्रवाह में |